क्या टेनिस वर्ल्ड के चार मेन्स सितारे अपने अंतिम दौर में चल रहे हैं

sport news

रोजर फेडरर, नोवाक जोकोविच, राफेल नडाल और एंडी मोरे टेनिस की दुनिया के चार सितारे जिनके कारण ही टेनिस के दौर को गोल्डन एरा कहा गया। 2008- 2010 का दौर जब रोजर फेडरर और राफेल नडाल टेनिस का परचम लहरा रहे थे उसी दौर में नोवाक जोकोविच और एंडी मोरे ने इस खेल में एंट्री ली। आते ही नोवाक जोकोविच ने 2008 के ऑस्ट्रेलिया ओपन में रोजर फेडरर को सेमीफाईनल में हराकर अपने पहले ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाईनल में पहुंच गए। और यहीं से टेनिस वर्ल्ड में एक नए सितारे का आगाज हुआ। इसी दौर में ही एंडी मोरे ने विंबलडन में फर्स्ट क्वार्टरफाईनल में राफेल नडाल को हराकर टॉप रैंकिंग में अपनी जगह बनाई। तब से लेकर अब तक टेनिस में इन चारों ने टेनिस में अपनी खास पहचान बनाई और आज ये टेनिस के महानतम खिलाड़ियों में कहे जाते हैं।

tennisf

टेनिस के ये चार बड़े नाम आज कहीं न कहीं अपनी रैंकिंग से गायब होते दिखाई दे रहे हैं। अगर इसके पीछे की वजह जानने की कोशिश की जाए तो ये साफ है कि ये समय के साथ ओल्ड होते जा रहे हैं। जैसा कि राफेल नडाल ने इस साल को यूएस ओपन के दौरान खुद ही कहा था कि हम चार धीरे धीरे रिटायरमेंट की तरफ बढ़ रहे हैं। और ये जरुरी है कि नई पीढ़ी को हमारी पोजीशन लेने का मौका मिलना चाहिए। ये सही भी है कि कोई भी एक जगह पर हमेशा नहीं रह सकता। नडाल का ये स्टेटमेंट इस बात की ओर इशारा करता है कि इन्होंने नए खिलाडियों को मौका देने का निर्णय ले चुके हैं। ये भी देखा जाता रहा है कि आए दिन चारों किसी न किसी तरह से इंजर्ड हुए हैं जो इनके परफॉर्मेंस में बाधक बन रहा है। यही कारण है कि 34 वर्षीय रोजर फेडरर अपनी घुटने की सर्जरी की वजह से पहली बार य़ूएस ओपन में भाग नहीं ले पाये। राफेल नडाल और नोवाक जोकोविच के साथ भी यही कहानी है।

दोनों अपने रिस्ट इंजरी की वजह से खेल नहीं पा रहे हैं। 30 वर्षीय नडाल ने जहां अपने इस इंजरी की वजह से फ्रेंच ओपन और विंबलडन को मिस कर दिया। वहीं बस एंडी मोरे हैं जिन्हें इससे कुछ राहत है। वे कहते हैं ये सामान्य सी बात है कि हम चारों अभी करियर के अंतिम दौर में चल रहे हैं और 10-15 सालों से हमने टॉप 10 में खुद के बनाए रखा है। वे आगे कहते हैं कि खेल में इंजर्ड होना आम बात है लेकिन ये भी सही है कि हेल्दी और फिट रहने पर कोई भी इवेंट को जीता जा सकता है। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि एंडी मोरे कितने समय तक अकेले टेनिस को और इसकी एक्सेलेंस को अपने कंधो पर ढ़ो पायेंगे।

राफेल नडाल के कोच और अंकल टोनी नडाल ने ये काफी पहले ही ये भविष्यवाणी भी कर दी थी कि 2014 में बिग फोर एरा का द एंड हो जाएगा। महज तीस की उम्र में गिव अप करने का खयाल क्या इस बहस को जन्म नहीं देता कि क्या इतनी कम उम्र में ही टेनिस से रिटायर होना कहां तक सही है।